Breaking News
Home / व्यापार / 1500 के जिओ फोन में आ रही है 2500 की लागत,क्या चल पायेगा अम्बानी का जादू ???

1500 के जिओ फोन में आ रही है 2500 की लागत,क्या चल पायेगा अम्बानी का जादू ???

रिलायंस इंडस्ट्रीज अपना जियोफोन केवल 1500 रुपये में ग्राहकों को दे रही है, और वह भी बाद में कंपनी से रिफ़ंड हो जाएगा। हालांकि कंपनी को इस फोन को बनाने में कम से कम 2,500 रुपये की लागत आ रही है। इस मामले से जुड़े सूत्रों ने रॉयटर्स को यह जानकारी दी है। इसका मतलब है कि कंपनी को 1 करोड़ फोनसेट पर 981 करोड़ रुपये का भार वहन करना पड़ेगा। तो आखिर कंपनी 2,500 रुपये के लागत वाला फोन इतनी कम कीमत में दे क्यों रही है?
सूत्रों की मानें तो कंपनी का लक्ष्य सब्सक्राइबर बेस बढ़ाना है। कंपनी अगले दो साल में 25 से 30 करोड़ यूजर्स को जोड़ना चाहती है। रिलायंस कंपनी से इस पर टिप्पणी का आग्रह किया गया था, लेकिन कंपनी की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।

रिलांयस के कुछ निवेशक सब्सिडी की इस कीमत से हिचक सकते हैं, लेकिन जियो के खर्च के पैमाने से उसकी महत्वाकांक्षा का भी स्पष्ट सिग्नल मिल जाता है। कंपनी उन 50 करोड़ लोगों को टागरेट कर रही है जिनकी आर्थिक क्षमता स्मार्टफोन खरीदने की नहीं है।
जियो का अडवांस वॉइस ओवर LTE (VoLTE) नेटवर्क केवल 4G डिवाइसेज पर काम करता है, लेकिन कम कीमत के बावजूद अभी बहुत से लोग इसे एक्सेस नहीं कर सकते हैं। जियोफोन आर्थिक रूप से कुछ कमजोर लोगों तक पहली बार इंटरनेट की पहुंच बनाएगा।
सूत्र ने बताया कहा, ‘3,000 रुपये के फोन से यह संभव नहीं होता। रिलायंस ने इस फोन के साथ साहसिक कदम उठाया है और डेटा उनके लिए अहम है। विश्लेषकों के मुताबिक फीचर फोन यूजर्स का “रेवेन्यू पर यूजर’ (ARPU) 50 रुपये या इससे कम है। जियोफोन के 153 रुपये के मासिक प्लान के जरिए ARPU को बढ़ाने की तैयारी है।’
भारत के सबसे अमीर शख्स मुकेश अंबानी की अगुआई वाली कंपनी जियो ने पिछले साल लॉन्चिंग के बाद से फ्री वॉइस कॉल और कम कीमत में डेटा देकर अब तक 12.8 करोड़ से अधिक यूजर्स जोड़ लिए हैं।
बड़े भारतीय शहरों में आधे दर्जन से अधिक कंपनियां मार्केट शेयर हासिल करने के लिए प्रतिस्पर्धा कर रही हैं, लेकिन सूत्र के मुताबिक रियालय टेलिकॉम मार्केट को तीन प्लेयर्स में बंटता देख रहा है, जिसमें जियो के अलावा भारती एयरटेल और संयुक्त रूप से वोडाफोन-आइडिया शामिल है।
रिलायंस के एक अधिकारी ने पहले रॉयटर्स को बताया था कि अभी जियोफोन का निर्माण चीन स्थित यूनिट में हो रहा है, लेकिन रिलायंस फॉक्सकॉन ऐंड फ्लेक्सट्रॉनिक्स के साथ डील तैयारी में है जो इसे भारत में ही असेंबल कर सकती है।

About admin@live

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *