Breaking News
Home / प्रदेश / दिल्ली / मोदी कैबिनेट के इन 9 मंत्री पर गाज गिरनी तय है जानिए क्या है वजह

मोदी कैबिनेट के इन 9 मंत्री पर गाज गिरनी तय है जानिए क्या है वजह

मोदी कैबिनेट में प्रस्तावित फेरबदल अब कुछ घंटों की ही बात है. ऐसा माना जा रहा है कि उन मंत्रियों पर गाज गिरनी तय है जिनके प्रदर्शन को लेकर पीएम मोदी और अमित शाह खुश नहीं थे. तीन साल पूरा होने के बाद बीजेपी अभी से 2019 के चुनाव की तैयारियों में लग गई है और कई राज्यों में विधानसभा चुनाव को देखते हुए भी सरकार अपनी छवि सुधारने की दिशा में कदम उठा रही है.

दरअसल, मोदी सरकार के करीब 9 मंत्री ऐसे हैं, जिनकी छुट्टी हो सकती है या उनके विभाग में फेरबदल किया जा सकता है. बताया जा रहा है कि कई मंत्रियों ने इस्तीफे की पेशकश की है.

कलराज मिश्र

कलराज मिश्र को 75 साल से ज़्यादा उम्र होने के कारण मंत्रिमंडल से ड्रॉप किया जा सकता है.

राजीव प्रताप रूडी

राजीव प्रताप रूडी के कामकाज को लेकर भी ऐसा माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री बहुत खुश नहीं हैं.

उमा भारती

उमा भारती से भी प्रधानमंत्री खुश नहीं हैं. उन्होंने गंगा सफाई के नाम पर कुछ काम नहीं किया है

निर्मला सीतारमण

ऐसी चर्चा है कि वाणिज्य राज्यमंत्री निर्मला सीतारमण भी इस्तीफे की पेशकश कर चुकी हैं. बताया जा रहा है कि उन्हें फिर से संगठन कार्य में लगाया जा सकता है.

संजीव बालियान

संजीव बालियान भी इस्तीफे की पेशकश कर चुके हैं, इनको भी खराब प्रदर्शन का खामियाजा भुगतना पड़ सकता है.

फग्गन सिंह कुलस्ते

फग्गन सिंह कुलस्ते बताया जाता है कि मंत्रालय में उनके अटेंडेन्स और पार्टी के संगठन के कार्यक्रमों में न के बराबर हाजिरी होने से अमित शाह और प्रधानमंत्री उनसे खुश नहीं हैं.

राधामोहन सिंह

कृषि मंत्री राधामोहन सिंह के कामकाज से भी पीएम मोदी बहुत खुश नहीं हैं.उनका मंत्रालय बदला जा सकता है.

सुरेश प्रभु

रेलमंत्री सुरेश प्रभु ही रहे हैं. ट्टिवटर पर वे काफी सक्रिय रहे हैं, लेकिन रेल हादसे रोकने में उनका मंत्रालय अक्षम साबित हुआ है. पिछले दिनों हुए रेल हादसों की जिम्मेदारी लेते हुए उन्होंने अपने इस्तीफे की पेशकश की थी, लेकिन उनका इस्तीफा अभी तक मंजूर नहीं हुआ है. सुरेश प्रभु को फिलहाल बाहर न करते हुए कोई और विभाग दिया जा सकता है.

उपेंद्र कुशवाहा

एचआरडी राज्यमंत्री मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के प्रदर्शन से भी पीएम खुश नहीं हैं. दूसरी बात यह कि बिहार में अब सत्ता समीकरण भी बदल गया है, ऐसे में उनकी अब केंद्र में उपयोगिता नहीं रह गई है.

About admin@live

Check Also

नकली दूध फैक्ट्री का हुआ भांडाफोड़ !!!

सदर कोतवाली लखीमपुर खीरी के अन्तर्गत महेवागंज लिलौटी नाथ मोड़ पर नकली दूध बनाने वाली …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *